ink of the heart!

aasaman ke pankh

कुछ अल्फाज़ दिल की स्याही से लिखे गए,
कुछ अपने साथ फूलों की खुशबु समा लिए,,
बिखरते वक़्त ने दिखाए इनके चेहरे,
कई रंगों में अपनी कहानी सूना गए!

गुज़रते समय के पन्नो
की एक किताब दिखाई दी,
कुछ पन्ने फटे,पुराने से,
कुछ नए करारे नज़र आये,
लब्ज़ उनमे  भी अपनी कहानी दोहरा गए,
दिल की स्याही के कई  रंग छलका गए।

इस स्याही   की दवात न जाने कितनी है गहरी,
लिखे हज़ारों शब्द ,
लेकिन न  होती फीकी,
दिखाती है अपना सुरूर ,
सुर्ख लाल सा
मखमली  है इसका रूप,
बेनजीर सा !

ज़िन्दगी के कागज़ के दिल पर
यह अपनी कहानी लिखती
रंग बिरंगे रंगों से उसे सजाती ,
बहती हुई कलम से
उभरे वो पन्नो पर,
जैसे बादलों से निकला हो चाँद ज़मीन पर!

 

View original post

Advertisements

share your suggestions,comments and thoughts on this ...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Up ↑

%d bloggers like this: