feel the brightness!

aasaman ke pankh

गरजते हुए बादलों के पीछे से शरमाई चांदनी झांक रही ,
कभी डर  के कभी सिहर के देख रही,
ठहरी सी लहराई सी,
हवा के साथ गुनगुना रही।
 
न फ़िक्र है उसे बिजली की गरज से,                         
न जाने वो काले बादलों क साए को,
बस अपने में ही चलती जा रही,
चारो ओर  अपनी हंसी बिखरा   रही ।
 
सफ़ेद झिलमिलाती चादर सी आँगन में,
वो अपने साथ लिए प्यार को दामन में,
चलती  यूँ मीलों खामोशी से,
ख़ुशी की रोशनी जगमगा रही .
 
निर्मल चांदनी का ये दर्पण,
चारों ओर लाये उजियारा ,
घने काले बादल हट जाए,
देख कर इसकी अनोखी अदा!
 

View original post

Advertisements

share your suggestions,comments and thoughts on this ...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Up ↑

%d bloggers like this: